क्या है Taj Mahal का रहस्य? क्यों बंद रखा जाता है इसके तहखानों को? सच्चाई होश उड़ा देगी

Taj Mahal दुनिया के सात अजूबों में से एक है. यह अपनी भव्य सुंदरता और शाहजहां-मुमताज़ की प्रेम कहानी के लिए पूरी दुनिया में प्रसिद्ध है. जितना यह अपनी सुंदरता के लिए प्रसिद्ध है उससे भी कई ज़्यादा यह अपने पीछे छुपाये गए रहस्यों के लिए बदनाम है. पिछले कुछ दशकों से यह एक विवाद बना हुआ है कि दुनिया का यह अजूबा ताजमहल वास्तव में Taj Mahal है या तेजो महालय. दरअसल ताजमहल के तैखाने में कुल 22 कमरे हैं. यह तहखानें न जाने कितनी सदियों से बंद पड़े हैं. आखिर क्या है इस तैखाने का रहस्य और यह तहखाने बंद क्यों पड़े हैं, कुछ सिद्धांतकार ऐसा मानते हैं कि ताजमहल के बेसमेंट के कक्ष मार्बल से बने हुए हैं. यदि कार्बन डाइऑक्साइड की मात्रा अधिक होगी तो वह कैल्शियम कार्बोनेट में बदल जायेंगे. कार्बन डाइऑक्साइड इन  मार्बल्स को पाउडर का रूप देने लगता है जिसके चलते दीवारों को नुकसान पहुंच सकता है.

दीवारों को नुकसान न पहुंचे इसलिए इन तैखानों को बंद किया गया है. यहां पर लोगों के आने पर भी मनाही है. आइए जानते हैं पूरी बात